मेरो अर्घाखाँची


कति राम्रो अर्घाखाँची
हरियाली त्यसै माथि
उत्तरतिर अर्घा अनि दक्षिणातिर खाँची

बागी खोला सल् सल् बग्यो
छिर्लिङ खोला कलकल गर्यो
सीत खोला खलखल गर्यो
अर्घा अनि खाँचीबिच
चुत्रबेंशी, सन्धीखर्क रैछ
कुरबाट हेर्दाखेरि झनै राम्रो रैछ
मनको कुरा पुर्याइदिने
सुपाकी देउराली माइ
आफू सात समुद्रपारि भए तापनि
घर परिवारलाई रक्षा गरे है
त्यस्तो राम्रो गाउँघर छोडी
दुबइमा पस्न लेखेको रैछ
जन्मँदाखेरि भाग्यमा लेखेको
भगवान सिबाए कसले देखेको रैछ
कुरबाट पारि हेर्दा
मेरो चिउरमटी गाउँ
सधैंभरि परिवारसँगै
जीवनभर रमाउन पाऔं  
शिर भर सबै दिई
सबै भगवानमाथि
आफ्नै गाउँ आफ्नै ठाउँ
रमाइलो लाग्छ आफ्नै अर्घाखाँची

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

6 thoughts on “मेरो अर्घाखाँची”

  1. के दिउ तिमिलाई सम्झनाको उपार्
    के दिउ तिमिलाई सम्झनाको उपार् केवल् मसङग आसु मात्र छ के छोडु तिमि लाई बिछोड् को उपहार् केवल् मसङ्ग चोटोई चोट्रर बेदना मात्र छ सलाम् दिन् अलि हाल् दोहा कतार् + अर्घाखान्चि पालि ३

    1. कहने को तो कुछ भी कहो स्वीकार
      कहने को तो कुछ भी कहो स्वीकार नहीं हमको हम जैसे हैं वैसे ही हैं इन्कार नहीं हमको । खामोश भी जब हम रहे कमजोर समझा हमको तोडेंगे मौन अपना देंगे जवाब तुमको…… हम जैसे हैं वैसे ही हैं इन्कार नहीं हमको।सरीफ अली अर्घाखाँची पाली ३

  2. कहने को तो कुछ भी कहो स्वीकार
    कहने को तो कुछ भी कहो स्वीकार नहीं हमको हम जैसे हैं वैसे ही हैं इन्कार नहीं हमको । खामोश भी जब हम रहे कमजोर समझा हमको तोडेंगे मौन अपना देंगे जवाब तुमको…… हम जैसे हैं वैसे ही हैं इन्कार नहीं हमको। मस्जिद्।महेर मिया अर्घाखाँची पाली २

    1. अस्सलामउवालेकुम मस्जिद महेर
      अस्सलामउवालेकुम मस्जिद महेर जि इल्ज़ाम जमाने के हम तो हँस के सहेंगे
      खामोश रहे हैं ये लब खामोश रहेंगे

      तुमने शुरू किया तमाम तुम ही करोगे
      हम दिल का मामला ना सरेआम करेंगे

      हम बदमिज़ाज ही सही दिल के बुरे नहीं
      दिल के बुरे हैं जो हमें बदनाम करेंगे

      बदनाम करके हमको बड़ा काम करोगे
      शायद जहां में ऊँचा अपना नाम करोगे

      हर दम पे ♥जितू♥ उन्हें तो नाम चाहिए
      अच्छे से ना मिला तो बुरा काम करेंगे
      सलाम दिन अली अर्घाखाँची पाली ३+ हाल दोहा कतार

  3. नखोज्नु है मलाई जन्मभुमिको
    नखोज्नु है मलाई जन्मभुमिको कुना कुनामा म त गाउँ घर छाडी समुन्द्र तरी पराइ बनि सकेछु नखोज्नु है मलाई पहिलाको गाउँ घरको ठेगानामा म त अब परदेशी पो भैसकेछु, परदेशी पो भैसकेछु नखोज्नु है मलाई बसन्त ऋतुको हरियालीमा म त उजाड मरुभुमिमा हर्राई सकेछु नसम्झिनु है मलाई कुनै खुशियालीमा म त दुःख र आँशुको सागरमा पो डुबि सकेछु मस्जिद्।महेर मिया अर्घाखाँची पाली २

  4. न सबाल बनेर मिल मसँग
    न जबाफ

    न सबाल बनेर मिल मसँग
    न जबाफ बनेर मिल मसङग
    मेरो जिन्द गि मेरो सप्ना हो
    मसङग सप्ना बनेर मिल
    येति माया छ कि मेरो दिल्मा कहिलै कमि महसुस् गर्ने छैनै तिमि
    जस दिन जाउला यो दुनिया देखि उसदिन् मोउत नि आसु बगाउनि छ
    सलाम दिन अली अर्घाखाँची पाली ३+ हाल पर्देस अरब कतार अल अत्तिया बजार

Leave a Reply to अतिथि Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *