bhim basnet

परेली मै संगालेर

परेली मै संगालेर आसुँ मैले थुनी रहें ।
चोखो माया अंगालेर फाटेको मन तुनी रहें ।।

आफूलाई बिर्सिएर मात्र चाहें तिम्रो खुशी
तिमी नै हो जिबन भनी तिमीलाई चुनी रहें ।।

थाहा छैन तिम्रो मनमा बस्न सफल छु कि छैन
पागल प्रेमी बनी आज माया जाल बुनी रहें ।।

कुन्नी के भो तिम्रो सामु नौनी सरी पग्ली सकें
झनै मिठो बोली सुन्दा लठ्ठिएर सुनी रहें ।।

सक्दिन म हटाउन मेरो मनको कुनाबाट
हर पल हर क्षण तिम्रै नाम गुनी हरें ।।

भिम बस्नेत
दोहा कतार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •